क्षेत्रीय

(बुरहानपुर) कांग्रेस का अल्पसंख्यक कार्ड फ्लॉप शो महाजन बने अधिकृत प्रत्याशी

09/11/2018

बुरहानपुर (ईएमएस)। विधानसभा चुनाव 2018 के लिए प्रमुख रूप से भाजपा और कांग्रेस में टिकट को लेकर घमासान जारी था जिसमें में भाजपा से अर्चना चिटनिसअ और कांग्रेस से रविंद्र महाजन टिकट लेने में सफल हुए मुख्य मुकाबला भाजपा और कांग्रेस के बीच होने की उम्मीद की जा रही है! दरअसल विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारी को लेकर भाजपा और कांग्रेस में काफी कलहा देखी गई थी भाजपा में गुटिया राजनीति के चलते अर्चना चिटनिस को भी टिकट लेने में काफी मेहनत करना पड़ी वहीं कांग्रेस में भी भीतरी कलहा के चलते टिकट को लेकर मुस्लिम कार्ड खेला गया लेकिन स्वयं उम्मीदवार हमिद काजी ने तकनीकी कारणों के चलते टिकट वापस कर पार्टी के सामने फिर एक बार उलझन खड़ी कर दी! कांग्रेस में टिकट को लेकर 4 नामों का पैनल बनाया गया जिसमें पूर्व विधायक अमित काजी कांग्रेस जिला अध्यक्ष अजय रघुवंशी पूर्व विधायक रविंद्र महाजन और पूर्व जनपद अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह ठाकुर के नाम शामिल किए गए थे पार्टी ने जमीनी सर्वे कराया तो सुरेंद्र सिंह ठाकुर अव्वल रहे अरुण यादव अपने समर्थक अजय रघुवंशी को टिकट दिलाना चाहते थे लेकिन सर्वे रिपोर्ट के आधार पर सिंधिया समर्थक सुरेंद्र सिंह को पात्र मान रहे इसी गुटिय राजनीति ने मुस्लिम अल्पसंख्यक कार्ड का दांव चला और पार्टी ने पूर्व विधायक हमीद काजी को उम्मीदवार घोषित कर दिया! अल्पसंख्यक कार्ड खेले जाने के चलते हमीद काजी उम्मीदवार तो घोषित हो गए लेकिन उन्होंने पार्टी हाईकमान को टिकट वापस कर दिया जिसके बाद एक बार फिर सिंधिया समर्थक ठाकुर सुरेंद्र सिंह को दिल्ली तलब किया गया और उम्मीद की गई थी पार्टी उन्हें उम्मीदवार घोषित करेगी लेकिन ऐसा ना हो कर बुधवार को पार्टी ने पूर्व विधायक रविंद्र महाजन को कांग्रेस प्रत्याशी घोषित कर दिया! भाजपा के कद्दावर नेत्री और दो बार की विधायक मंत्री अर्चना चिटनीस के मुकाबले हमीद काजी कोई टक्कर दे पाते लेकिन रविंद्र महाजन की उम्मीदवारी ने फिर समीकरण बिगाड़ दिए वहीं सिंधिया समर्थक ठाकुर सुरेंद्र सिंह को यदि भाजपा की कद्दावर नेत्री अर्चना चिटनिस के मुकाबले टिकट दिया जाता तो भाजपा को कड़ी टक्कर दे पाते! विधानसभा चुनाव 2018 के लिए भाजपा और कांग्रेस के बीच मुकाबला तय है लेकिन कांग्रेस की आपसी गुटबाजी को लेकर चले घटनाक्रम और खींचतान ने ऐसे व्यक्ति को टिकट दिया जो कड़ी टक्कर नहीं दे पाएंगे कांग्रेस के मुस्लिम अल्पसंख्यक कार्ड भी आपसी गुटबाजी की देन रहा वर्तमान में बुरहानपुर विधानसभा सीट वर्ष 2008 से अल्पसंख्यक श्रेणी से बाहर है 2008 में विधानसभा के नए परिसीमन के बाद से शाहपुर विधानसभा सीट समाप्त होने और इसका आधाक्षेत्र बुरहानपुर विधानसभा क्षेत्र में शामिल होने से यह अब बहु संख्या सीट हो गई है यहां कुल मतदाता 2ण्83ण्602 है जिनमें 1ण्30000 हजार मतदाता मुस्लिम अल्पसंख्यक है ऐसे में यहां मुस्लिम कार्ड खेल ना केवल राजनीति करना है! कांग्रेस के द्वारा घोषित किए गए रविंद्र महाजन पूर्व विधायक होकर ग्रामीण क्षेत्रों में पेट रखते हैं जिसे ध्यान में रखकर पार्टी ने उन्हें बुरहानपुर विधानसभा सीट से उम्मीदवार घोषित किया गया है उनके द्वारा गुरुवार दोपहर अपना नाम निर्देशन पत्र भी दाखिल कर दिया है।
ईएमएस/मोहने/ 09 नवंबर 2018