क्षेत्रीय

(बुरहानपुर) शहर के बाहरी क्षेत्रों में लॉक डाउन का नहीं असर

25/03/2020

सड़कों और गलियों में बेरोक टोक घूम रहे लोग
करोना वायरस संक्रमण शंका के चलते इंजीनियर युवक ने खुद को आइसोलेशन वार्ड में कराया भर्ती
बुरहानपुर (ईएमएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा 14 अप्रैल तक पूरे देश में लॉक डाउन की घोषणा से लोगों को चिंता में डाल दिया है ।खान-पान और आवश्यक वस्तुओं के नहीं होने से उसकी तलाश में लोगों को घर से निकलते देखा गया है। इसी के चलते खंडवा रोड स्थित सब्जी नीलाम मंडी में सैकड़ों लोगों की भीड़ ने लॉक डाउन को ब्रेक किया है ।प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा जीवन उपयोगी जरूरी वस्तुओं की सप्लाई करने के निर्देश तो दिए गए हैं।परंतु जिला प्रशासन इसको लेकर कोई रणनीति नहीं बना सका है 21 दिनों के इस बंद में खानपान की आवश्यक वस्तुओं की घर परिवार में कमी होना स्वाभाविक बात है। परंतु इस पर प्रशासन के द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया गया है इसी बीच शहरी क्षेत्र में लोगों की आवाजाही को रोकने के लिए नगर पुलिस अधीक्षक को स्वयं रोड पर उतरकर कमान संभालते देखा गया दूध और मेडिकल से दवा के नाम पर लोग लॉक डाउन के बीच बाहर निकलते देखे गए।लॉक डाउन का पूरी तरह से पालन करा कर कोरोना वायरस के साइकिल चक्र को तोड़ा जाए इसके पूरे प्रयास किए जा रहे हैं। इसी बीच बहादरपुर निवासी 10 वर्षीय बालक गणेश को सर्दी खासी के चलते बुधवार की सुबह ज़िला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया जिसकी आवश्यक जांच सिविल सर्जन डॉ शकील खान के द्वारा स्वयं की गई लेकिन बालक की बढ़ती खांसी को देख परिजनों के आग्रह पर उसे इंदौर इलाज हेतु भेजा गया है। वहीं एक अन्य मामले में सारोला निवासी युवा इंजीनियर के साथियों को पुणे में कोरोना वायरस संक्रमित होने का पाए जाने पर युवक इंजीनियर ने स्वयं को जिला चिकित्सालय बुरहानपुर के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती हो गया है जिसके खून के नमूने लेकर जांच के लिए इंदौर भेजे गए हैं इस संबंध में डॉ शकील खान ने बताया कि इंजीनियर युवक की ब्लड रिपोर्ट कल सुबह तक प्राप्त हो जाएगी जिसके बाद खुलासा हो सकेगा, वही दूसरा बालक गणेश खांसी को लेकर पिछले एक पखवाड़े से परेशान हैं जिला चिकित्सालय में भर्ती होने से पूर्व दो तीन डॉक्टर से बाहरी तौर पर इलाज भी करा चुका है।परंतु आराम नहीं होने तथा वर्तमान परिस्थितियों के चलते परिजन उसे इलाज हेतु इंदौर ले गए हैं। वहीं सिविल सर्जन ने यह भी बताया कि जिला अस्पताल में आने वाले मरीजों को लेकर पूरी सतर्कता बरती जा रही है आइसोलेशन वार्ड तैयार किया गया है तथा स्टाफ की ड्यूटी भी लगाई गई है बुरहानपुर जिला अस्पताल में अभी तक कोई संदिग्ध मरीज नहीं आया है।
अकील आजाद/ 25 मार्च 2020