भारतीय पब्लिक सर्च इंजन

ई-सेवा (Links)

यश सर स्थान पर जय हिन्द सर बोलने की ब्यवस्था एक अक्टूबर से बच्चो को षिक्षा के साथ संस्कार भी दे गुरूजन

img
 - कुंवर विजय शाह 
सतना प्रदेश के स्कूल शिक्षा मंत्री कुंवर विजय शाह ने कहा कि राष्ट्र के निर्माण के लिये कर्णधारो को तैयार करने का दायित्व गुरूजनो को दिया गया है। शिक्षक अपने छात्रो मे शिक्षा के साथ ही संस्कार भी देने का कार्य करे। उन्होने कहा कि शिक्षक का चरित्र आचरण और ब्यवहार समाज मे ऐसा होना चाहिये कि लोग उनसे प्रेरणा ले। स्कूल शिक्षा मंत्री ने चित्रकूट में शासकीय हाईस्कूल, हायर सेकेण्डरी के प्राचार्य, माध्यमिक शालाओ के प्रधानाध्यापक, जनशिक्षक एवं बी0आर0सी0 की संयुक्त विभागीय बैठक कोें संबोधित करते हुये यह बात कही। इस मौके पर सी0ई0ओ0 जिला पंचायत अनूप कुमार सिंह, जिला शिक्षा अधिकारी बी0एस0देशलहरा, प्राचार्य डाईट अंजनी त्रिपाठी, ए0डी0पी0सी0 गिरीष अग्निहोत्री, जिला संयोजक आदिम जाति अभिषेक सिंह भी उपस्थित थे। 
स्कूल शिक्षा मंत्री कुंवर विजय शाह ने कहा कि शिक्षक समाज और पीढियो को बदलने की क्षमता रखतें है। राज्य सरकार ने इस वर्ष हर जिले के शिक्षक को सम्मानित किया है। माता-पिता के बाद शिक्षक ही छात्रो मे संस्कार देने का काम करतें है। इसलिये शिक्षा के साथ संस्कार देने में पीछे नही रहे। उन्होने कहा कि नौजवान पीढी मे राष्ट्रभक्ति का जज्बा बढें इसके लिये सभी शासकीय स्कूलो मे प्रारंभ में ही प्रतिदिन ध्वजारोहण झंडावंदन एवं राष्ट्रगान किये जाने के निर्देश दिये गये है। सतना जिले से ही प्रायोगिक तौर पर बच्चो की उपस्थिति के समय यश सर बोलने के स्थान पर जय हिन्द सर बोलने की ब्यवस्था एक अक्टूबर से लागू किये जाने का निर्णय आज ही लिया जा रहा है। इसके पश्चात् इसे पूरे प्रदेश मे लागू किया जायेगा। उन्होने कहा कि देश की खातिर बलिदान देने वाले शहीद सैनिको के नाम पर उस ग्राम की प्राथमिक या माध्यमिक शाला का नामकरण किये जाने के प्रस्ताव को प्राथमिकता दी जायेगी। उन्होेने कहा कि ध्वजारोहण और झंण्डावंदन की परम्परा प्रतिदिन प्राईवेट स्कूलो मे भी किये जाने की सलाह दी गई है। उन्होने कहा कि पूरे देष मे कक्षा एक से 12 तक एक ही पाठ्यक्रम की किताबे चलाने तथा म0प्र0 की सीमा से लगे हुये प्रदेशो कें म0प्र0 में अध्ययनरत बच्चो को भी योजनाओ का लाभ दिलाने के संबंध में प्रस्ताव 25 सितम्बर को केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री के साथ होने वाली बैठक में रखा जायेगा। इसी प्रकार अगले साल से शिक्षको की एकरूपता के लिये डेªसकोड यूनिफार्म एप्रिन अथवा नेमप्लेट लगाने पर भी विचार किया जा रहा है। 
स्कूल शिक्षा मंत्री कुंवर विजय शाह ने 5-5 हायर सेकेण्डरी स्कूल, हाईस्कूल के प्राचार्य, मिडिल स्कूल के प्राधानाध्यापक और जनशिक्षको से रूबरू चर्चा कर उनके विद्यालयो मे चल रही शैक्षणिक गतिविधियो शिक्षा के गुणवत्ता के संबंध मे किये गये प्रयास शिक्षको की उपस्थिति गणवेश एवं पाठ्य पुस्तको का वितरण छात्र-छात्राओ के लिये पेयजल शौचालय की ब्यवस्थाओ भवन की पूर्ति अतिथि शिक्षको की नियुक्ति आदि बिन्दुओ पर जानकारी ली। उन्होने स्थानीय स्तर पर आने वाली कठिनाईयो की जानकारी भी चर्चा के दौरान ली। उन्होने कहा कि अब जनशिक्षक प्रत्येक माह की निरीक्षण प्रतिवेदन रिपोर्ट केवल बी0आर0सी0 को ही नही बल्कि उसकी प्रति स्कूल शिक्षा मंत्री को भी भेजेगें। हर माह की रिपोर्ट के आधार पर स्कूल शिक्षा मंत्री सेम्पल बतौर कुछ रिपोर्टो के आधार पर दूरभाष पर चर्चा कर आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करायेगें। स्कूल शिक्षा मंत्री ने कहा कि उनके दूरभाष पर प्रत्येक सोमवार और मंगलवार को सुबह 9 से 11 बजे तक कोई भी जनशिक्षक सम्पर्क कर सकता है। उन्होने कहा कि जिला पंचायत और जनपद पंचायत की शिक्षा स्थाई समिति की बैठक प्रत्येक माह आयोजित की जाये तथा उनमे शैक्षणिक गतिविधियो की समीक्षा की जाये। इसके पूर्व जिला षिक्षा अधिकारी बी0एस0दशलहरा ने बताया कि जिले के सभी शैक्षणिक संस्थानो मे ध्वजारोहण झंण्डावंदन और राष्ट्रगान के निर्देश दिये गये है। इसी प्रकार विषयमान के हिसाब से शिक्षको की ब्यवस्था की पूर्ति के लिये अतिथि शिक्षको की भर्ती की गई है। कक्षाओ में छात्र-छात्राओ के बैठने का टेबल रोटेशन के नियम का पालन भी कराया जा रहा है। 
दयाशंकर मिश्रा १३ ९ 17
 
Admin | Sep 13, 2017 11:51 AM IST
 

Comments