भारतीय पब्लिक सर्च इंजन

ई-सेवा (Links)

ब्रह्मांड का सबसे छोटा तारा खोज निकाला

img

-नया तारा आकार में शनि ग्रह से थोड़ा बड़ा
नई दिल्ली (ईएमएस)। ब्रह्मांड का सबसे छोटा तारा खोज निकला है। यह नया तारा आकार में शनि ग्रह से थोड़ा बड़ा है। यह कारनामा कर ‎दिखाया है खगोलशा्त्रियों ने। माना जा रहा है कि इसकी कक्षा में पृथ्वी के आकार के ग्रह मौजूद हैं। ब्रिटेन की कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने लगभग 600 प्रकाश वर्ष दूर स्थित इस तारे को ढूंढ निकाला है। शोधकर्ता के मुताबिक इससे छोटे तारे का होना संभव नहीं है क्योंकि हाइड्रोजन के नूक्ली को हीलियम में विलय के लिए जितना वजन होना चाहिए, इसका वजन उतना ही है। अगर इससे कम वजन होगा तो तारे के भीतर का दबाव इस प्रक्रिया को संपूर्ण ही नहीं होने देगा। शनि ग्रह से थोड़े से बड़े इस तारे के सतह का गुरुत्वाकर्षण खिंचाव हमारी पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण से 300 गुना अधिक है। शोधकर्ता के मुताबिक यह खोज इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि इसके कक्ष में पृथ्वी जैसे ग्रह मौजूद है, जिनकी सतहों पर पानी के मौजूद होने  की संभावना है। कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के स्नातकोत्तर के छात्र एलेक्सेंडर बॉयटिशर ने बताया, हमारे अनुसंधान से पता चला कि कोई तारा कितना छोटा हो सकता है।
सुदामा/ईएमएस 17 जुलाई 2017
 

Admin | Jul 17, 2017 11:28 AM IST
 

Comments