भारतीय पब्लिक सर्च इंजन

ई-सेवा (Links)

(नई दिल्ली) नोएडा आग- जसमीत ने दो दिन पहले ही काटा था जन्मदिन का केक (२१पीआर२२ओआई)

img
नई दिल्ली (ईएमएस)। नोएडा के सेक्टर-११ स्थित एक्सेल ग्रीन टेक प्राइवेट लिमिटेड में आग लगने से जान गंवाने वाली जसमीत ने दो दिन पहले ही जन्मदिन का केक काटा था। परिजन अब भी मानने को तैयार नहीं, उनकी बेटी अब बीच में नहीं है। परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। दिल्ली विवि से बीए आनर्स की पढ़ाई कर रही जसमीत महज १९ साल की थीं। इंटर की परीक्षा पास करते ही उन्होंने घर पर बोझ न डालने का फैसला लिया और नौकरी कर ली। जसमीत की शिनाख्त उनके भाई ने की। चचेरे भाई शान का कहना है कि जसमीत ने दोपहर १:४५ बजे फोन कर कहा कि कंपनी में आग लग चुकी है। निकलने का रास्ता बंद है। 
दमकल विभाग का फोन नहीं लग रहा है। मुझे आकर बचा लो। हादसे में जान गंवाने वाले दिल्ली निवासी इंद्रभान ने साले अंकित को आग लगने के कुछ देर बाद फोन किया था। उन्होंने फोन पर कहा था कि भाई शायद यह हमारी आखिरी बात हो। हम फंस चुके हैं। कंपनी में रखे सिलेंडर भी काम नहीं कर रहे हैं। अंकित ने २:३० बजे टीवी पर खबर देखी। इसके बाद वह कंपनी पहुंचा, लेकिन यहां पता चला कि शव अस्पताल ले जाए जा चुके हैं। यहां अंकित ने इंद्रभान की शिनाख्त की। अंकित ने बताया कि इंद्रभान का ९ साल का लड़का व ४ साल की लड़की है। शामली निवासी परीक्षित शर्मा कंपनी में सुपरवाइजर थे। 
परिजनों का कहना है कि उसके एक बेटे की मौत १५ दिन पहले ही हुई थी। ऐसे में उनकी पत्नी व एक बेटे का कोई सहारा नहीं है। टीवी के जरिये ही परिजनों को आग की जानकारी मिली। परिजनों ने उसकी शिनाख्त हाथ में पहने कड़े को देखकर की। विवेक कोचर ने मां और चाचा हेमंत कुमार से बात की थी। बुधवार शाम करीब ६:१५ बजे मां को इस दर्दनाक हादसे की सूचना मिली। विवेक कमर्शियल हेड थे। चाचा हेमंत ने कहा कि पत्नी नेहा कोचर नोएडा स्थित एक बैंक में काम करती है। इसके अलावा घर में उसका छोटा भाई रोहित है। रोहित ने भाई की पहचान हाथ में घड़ी देखकर की। विवेक की शादी २०१० में हुई थी। घटनास्थल पर विवेक की जली बाइक देखकर हेमंत फूट पड़े। एवेंजर बाइक विवेक ने शौक के साथ ली थी।
झा/देवेन्द्र/ईएमएस/२१/अप्रैल/२०१७ 
 
Admin | Apr 21, 2017 16:22 PM IST
 

Comments